जिदना से हम मुनि बने है – श्रमण सागर जी महाराज की कविता

दोस्तों आज हम आपके लिए जो कविता लेकर आए हैं वह किसी कवि की नहीं है बल्कि एक जैन मुनि की है जिनका नाम श्री श्रमण सागर जी महाराज है। श्री श्रमण सागर जी महाराज ने यह कविता बुंदेलखंडी में कही है। इस पोस्ट का उदेश्य उनकी कविता को आप तक पहुंचना है। 

जैसा कि आप सब जानते हैं आज के इस खोखले संसार में जैन मुनि ही है जो तपस्या और त्याग के प्रतीक हैं। कितनी भी कड़ी ठंड हो ,गर्मी हो या बरसात ,वह हमेशा एक से रहते हैं। संन्यास लेने के बाद वह अपने वस्त्र तक त्याग देते हैं और पृथ्वी के सूक्ष्म से सूक्ष्म जीव का ख्याल रखते हैं।

दोस्तों इस कविता में श्री श्रवण सागर जी महाराज अपने संन्यास लेने के पहले और संन्यास लेने के बाद जिस तरह से आनंद का अनुभव करते हैं वह उसके बारे में बताते हैं। पहले वह जैसे सांसारिक जीवन में भटकते रहते थे या कार्यो में फसे रहते थे उसका वर्णन करते हैं और संन्यास लेने के बाद वह अपने  ईश्वर में किस तरह से लीन है उसका जिक्र करते हैं। यह कविता मध्यप्रदेश के बुंदेलखंड में बोले जाने वाली भाषा बुंदेलखंडी में बोली है।

श्रमण सागर जी महाराज की कविता – जिदना से हम मुनि बने है ओई दिना से मस्त है

जिदना से हम मुनि बने है ओई दिना से मस्त है
जिदना से हम मुनि बने है ओई दिना से मस्त है
जिदना से हम मुनि बने है ,ओई दिना से मस्त है
एके पेले सब कुछ संगे ,हतो मगर हम ने ते चंगे
पीछि कमंडल हाथ में जब से, हर दम हो रई हर हर गंगे
दुभिदा मन की मिट गई सबरी ,उत्साह जबरदस्त है
जिदना से हम मुनि बने है, ओई दिना से मस्त है
नैया कोनाऊ चेचे पेपे आगे पीछे ऊपर नीचे
 ऐसे लेने ओहो देने कबे खरीदें किदना बेचें
सब झंझट से मुक्ति पा के बिल्कुल तंदरुस्त है
जिदना से हम मुनि बने है ,ओई दीना से मस्त है
रात दिना तन को पोसत ते, आतम की हम ने सोचत ते
तन के संगे घर परिजन और मित्रों खों अपनो लेखत ते
जे सब पर है पतो चलत ही दृष्टि आतमस्त है
जिदना से हम मुनि बने है ,ओई दिना से मस्त है
कुशल छेम है मन है गद-गद, बंद हो गई तन की गदबद
अनुभूति अनुपम अपूर्व है , रोग राग सब हुए नदारत
इच्छा पूरी पुलकित रग रग, अंग उपांग समस्त है
जिदना से हम मुनि बने ,ओई दिना से मस्त है
दुनिया के कई काम करत ते ,अंधी दौड़ में भगत फिरत ते
पताई ने हतो काए खो कर रए ,सब कर रए सो अपन करत ते
जब से रस्ता पता लगी है ,एकई काम मे व्यस्त है
जिदना से हम मुनि बने है, ओई दिना से मस्त है
बाहर से तो हस्त दिखत ते ,भीतर हम सुख को तरसत ते
आकुलता थी चेन ने हतो, रोज मछरिया से तड़पत ते
तन मन अपनो गोड (पैर) मूड (सर) से ,आज चका चक स्वस्थ है
जिदना से हम मुनि बने है ,ओई दिना से मस्त है
आगे की अब चिंतई नैया, गुर के हाथ में अपनी नैया
बेई हामाए बाप, मातरी, सखा सगांती बिन्ना भैया
उनके गोडो (पैर) की धूरा में अपनो मार्ग प्रशस्त है
जिदना से हम मुनि बने है ओई दिना से मस्त है

नोट – दोस्तों  आपको हमारी यह पोस्ट कैसी लगी आप हमें कमेंट करके जरूर बताएं।  अगर आपको इस प्रकार की कविता पसंद है तो आप हमें बता सकते हैं।  हम आगे आपको और ऐसी अलग-अलग कविताएं लेकर आएंगे जो आपका और हमारा ज्ञान बढ़ाए।  दोस्तों अगर इस  पोस्ट में हम पर लिखने में कुछ गलती हुई है तो आप हमें कमेंट कर कर या मेल कर बता सकते हैं। धन्यवाद

also read –

  • मेरी भी कीमत है – Bachhon ki kahani
    क्या आपके मन में भी कभी यह सवाल आया है ? क्या मेरी भी कीमत है ?  क्या सब की कीमत होती है ,यह सवाल कभी ना कभी हम सभी के मन में जरूर आया होगा या कभी ऐसी परिस्थिति आ गई होगी जिस वजह से हम किसी व्यक्ति की कीमत आकने लगे हो।  जीवन …

    Read more

  • बिना किक के लांच हुई Royal Enfield Bullet
    भारत के हर नौजवान के दिल में जगह बनाने वाली रॉयल एनफील्ड ने अपनी नई बाइक बुलेट 350 लॉन्च कर दी है, यह भारत के मार्केट को देखकर बनाई हुई है bullet में नया इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर और सेमी डिजिटल डिस्पले लगा दिया गया है.  पहले इस बाइक में सेल्फ नहीं आता था और अब इस …

    Read more

  • मंच पर हुआ बेहोश | आत्मविश्वास पर प्रेरक प्रसंग 
      किसी भी लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए आत्मविश्वास सबसे जरूरी होता है बिना आत्मविश्वास के कोई लक्ष्य प्राप्त नहीं हो सकता। बिना आत्मविश्वास  के साधारण जीवन में भी व्यक्ति सम्मान प्राप्त नहीं कर सकता।  आत्मविश्वास के सहारे कोई व्यक्ति असाधारण से असाधारण लक्ष्य को भी प्राप्त कर सकता है।   आत्मविश्वास पर प्रेरक …

    Read more

  • अनपढ़ माँ ने बनाया बड़ा अफसर | आत्मविश्वास बढ़ाने वाली कहानी
    जीवन में सफलता प्राप्त करने के लिए लक्ष्य निर्धारित कर निरंतर उसकी ओर बढ़ना पड़ता है और बहुत मेहनत करनी पड़ती है। किसी लक्ष्य की प्राप्ति के लिए आत्मविश्वास का होना बहुत जरूरी होता है। यह आत्मविश्वास अपने लक्ष्य की ओर बढ़ाएं छोटे-छोटे कदमों से बढ़ता है। आत्मविश्वास को बढ़ाने में हमारे माता-पिता और हमारे …

    Read more

  • अनोखा शिक्षक | शिक्षकों के लिए प्रेरणादायक कहानी
     शिक्षक वह होता है जो विद्यार्थियों को शिक्षा देता है ,पर एक शिक्षक केवल विद्यार्थियों को किताबी ज्ञान नहीं देता बल्कि उसका संपूर्ण विकास करता है। चाहे वह मौलिक विकास हो या फिर चरित्र निर्माण हो। अपने छात्र की कमियों और  उसके हुनर तथा क्षमताओं को परखना एक शिक्षक का कर्तव्य होता है।   एक शिक्षक …

    Read more

Leave a Comment