Inspiration Hindi Story

दोस्तों आज हम आपके लिए एक महान व्यापारी की (Inspiration Hindi Story) कहानी लेकर आए हैं जिसमें आपको पढ़ने मिलेगा कैसे उसे व्यापारी ने अपने लड़के को सही रास्ता दिखाया और पैसे का महत्व भी समझाया।

Inspiration Hindi Story – महान व्यापारी

बहुत पुरानी बात है एक शहर में एक व्यापारी रहा करता था जिसका नाम शहर के नामचीन व्यापारियों में आता था, एक छोटे से शहर से आकर उसने व्यापार में इतना पैसा कमाया कि शहर के बड़े से बड़े आदमी भी उसके सामने बोने महसूस होने लगे। 

Inspiration Hindi Story - महान व्यापारी

 कुछ लोगों को तो ऐसा लगता था जैसे इस व्यापारी के घर में पैसों का भंडार लग गया हो ,अपनी मेहनत और सूझबूझ से उसने यह सफलता हासिल की थी , ऐसो आराम के सारी साज सज्जा का सामान उसके घर में पड़ा हुआ था, उसके परिवार का कोई भी सदस्य किसी वस्तु, गाड़ी या घर के बारे में सोचता था उससे पहले ही वह ले लिया जाता था ऐसा लगता था मां लक्ष्मी का इस व्यापारी पर विशेष कृपा बनी हुई है। 

कुछ लोग उससे ईर्ष्या के चलते हुए, दिन रात उसकी बुराई करते रहते थे। व्यापारी ने बहुत मेहनत से यह धन कमाया था इसलिए वह धार्मिक कार्यों और किसी की भी मदद के लिए पैसे नहीं देता था , वह एक-एक पाई का हिसाब सबसे लिया करता था और अगर किसी को मदद के लिए पैसे दे भी दे तो वह वसूलना नहीं भूलता था। 

उसका सीधा और साफ सोचना था की यह मेरी मेहनत की कमाई है और  मैं एक भी रुपए किसी को व्यर्थ नहीं दूंगा ,चाहे कुछ भी हो जाए, यह मेरी कमाई है और इस पर सिर्फ मेरा हक है। इस व्यापारी का एक इकलौता लड़का था, बचपन से ही अपने घर में उसने अपार पैसा देखा था इसलिए उसको किसी वस्तु या पैसे की कोई कीमत नहीं थी। Inspiration Hindi Story

 जब उसका मन करता वह पैसे लोगों को बांट देता, जो भी वस्तु उसके दोस्तों को पसंद आती तुरंत उनको दे देता, उसके पिता अपने लड़के की इस आदत से बहुत परेशान थे। एक दिन लड़के ने अपने एक दोस्त को करोड़ों की गाड़ी, उसके जन्मदिन पर गिफ्ट में दे दी। यह देखकर उसके पिता आग बबूला होगा और उसकी कठोर सजा सुना दी। 

व्यापारी ने अपने लड़के के सभी खर्चों को बंद कर दिया ,यहां तक की उसने लड़के की अन्य कार भी वापस ले ली और कहा जब तक कि वह व्यापार में काम नहीं करने लगता। तब तक उसको अब कुछ भी नहीं मिलेगा, इस निर्णय से व्यापारी का लड़का बहुत क्रोधित हुआ और वह अपने दोस्तों से उधार मांग कर अपना काम चलने लगा। 

 उसने अपने पिता के व्यापार में काम करने से साफ इनकार कर दिया, बहुत दिन ऐसे ही चलता रहा फिर कुछ दिन बाद उसके सभी दोस्तों ने उसको पैसे देने से मना कर दिया, लड़के पर उधारी बढ़ गई और वह मानसिक तनाव में रहने लगा, एक दिन सभी दोस्त मिलकर उसके पिता के पास आए और अपने-अपने पैसे मांगने लगे , पिता ने लड़के को बुलाया और कहा यह सब तुम्हारे सबसे अच्छे दोस्त हैं, जिनको न जाने ,तुमने अब तक क्या-क्या दे दिया है और जब तुमने इसे कुछ पैसे मांगे और तुम नहीं लौट पाए तो यह मुझ तक आ गए। Inspiration Hindi Story

 तुमको इस बात का एहसास होना चाहिए कि कौन तुम्हारा है और कौन पराया ? आज मैं तुम्हारे सारे पैसे वापस कर दूंगा पर एक शर्त है तुमको मेरे साथ व्यापार में काम करना होगा। लड़के ने बिना कुछ सोचे समझे अपने पिता को हां कर दी और व्यापारी ने तुरंत उसके दोस्तों का सारा पैसा वापस कर दिया। व्यापारी बहुत खुश था कि उसका लड़का उसके साथ व्यापार में काम करेगा पर व्यापारी को अब भी लड़के को दौलत की कीमत समझनी थी। 

नैतिक शिक्षा पर छोटी कहानी

जैसे-जैसे लड़का व्यापार में काम करता गया, उसको यह समझ में आ गया कि पैसे कमाने में कितनी मुश्किल आती है, कितने सारे फैसले लेने पड़ते हैं तब जाकर पैसे कमाए जाते हैं। 

 हमारा जो इतना बड़ा व्यापार है यह कभी भी समाप्त हो सकता है , उसको अपने पिता पर धीरे-धीरे गर्व महसूस होने लगा और वह पैसे की कीमत समझने लगा। यह सब हो ही रहा था कि अचानक उसके पिता की तबीयत बिगड़ गई और वह कोमा में चले गए। सारे व्यापार की जिम्मेदारी अब उसे लड़के पर आ गई, व्यापार के साथ-साथ अपने पिता की देखरेख करना बहुत मुश्किल हो रहा था। Inspiration Hindi Story

 फिर भी लड़का जितना हो सकता था उतना काम करता रहा, धीरे-धीरे वक्त यूं ही गुजरता चला जा रहा था और लड़का मुश्किल से मुश्किल फैसला करने में सक्षम होता जा रहा था, ऐसा नहीं था कि व्यापार में फायदा ही हो रहा हो, पर ऐसा भी नहीं था कि व्यापार सीधे घाटे में जा रहा हो , लड़के के किसी फैसले से फायदा होता तो किसी से नुकसान हो जाता है। हम यह कह सकते हैं कि लड़के के पास एक्सपीरियंस नहीं था इसलिए थोड़ी उथल-पुथल तो व्यापार में आ गई थी। 

Seekh Dene Wali Kahani In Hindi

महीने का आखिरी दिन चल रहा था तभी अचानक एक फाइल लड़के के हाथ में आई जिसको देखकर उसके पैरों तले से जमीन निकल गई। उसने देखा कि उस फाइल में न जाने कितने बिल और पैसों का हिसाब है जो की किसी अस्पताल ,मंदिर और अनाथालय के हैं। जिनको उसके पिता दान दिया करते थे, उनकी पूरी कमाई का लगभग 30% हिस्सा दान में जाता था।

 लड़का इस सच्चाई को पचा नहीं पा रहा था कि को पिता किसी को एक पैसा भी नहीं देता वह बिना बताए अपनी कमाई का 30% दान पुण्य में देता है और लोगों की मदद करता है और किसी को इस बात का एहसास भी नहीं होने देता कि वह इतना बड़ा दान करता है। 

उसे व्यापारी का 30% हिस्सा मतलब बड़े से बड़ी नौकरी करने वाले की साल भर की तनख्वाह सिर्फ एक महीने के बराबर भी नहीं थी। लड़के को आज अपने पिता पर इतना गर्व हो रहा था जिसकी कोई सीमा नहीं है पर उसको इस बात की भी चिंता सता रही थी कि पिता जल्दी से ठीक हो जाए और वह उनसे क्षमा मांग सके। Inspiration Hindi Story

बुरे वक्त ने अब इस परिवार का साथ छोड़ दिया था और देखते ही देखते उसके पिता ठीक होने लगते हैं, बेटा दौड़कर अपने पिता के पास जाता है उनके पैर में गिरता है और माफी मांगते हुए कहता है मुझे नहीं पता था कि आप इतने महान हो, मैं तो आपको एक खडूस व्यापारी समझता था जिसके पास अपराध पैसा है पर वह किसी को एक पैसा भी नहीं देता। 

Swami Vivekananda Ki Kahani

पिता ने बेटे के सिर पर हाथ रखा और कहा बेटा पैसा होना एक बड़ी जिम्मेदारी है ,इससे बहुत से लालची लोग तुम्हारे आसपास घूमने लगते हैं , कुछ लोग अपनी जरूरत बताकर कर पैसे ले लेते हैं और कुछ लोग जाल में फंसा कर ले लेते हैं। मैं अगर सब की मदद करने लगूंगा तो जो लोग स्वयं अपनी मदद कर सकते हैं वह भी अपनी मदद करना बंद कर देंगे और मेरे आश्रित हो जाएंगे। 

भगवान का दिया हुआ यह पैसा ना जाने कब तक हमारे पास है क्या पता कल हम इस काबिल ना बच्चे की हम किसी को दान दे सके, इसलिए जब तक मैं यह सुनिश्चित नहीं कर लेता कि मैं जिसको दान दे रहा हूं उसको इसकी जरूरत है तब तक मैं किसी को एक पैसा नहीं देता, मैं यह भी नहीं बताता कि मैं दान देता हूं ताकि अनावश्यक ही हर कोई मेरे द्वारा पर ना खड़ा रहे। मैं चाहता हूं तुम भी ऐसा ही करो और फिर तुम्हारी जो मर्जी हो। Inspiration Hindi Story

मेरी भी कीमत है – Bachhon ki kahani

अब यह व्यापार तुम्हारा है और तुम्हें जैसे चलाना हो वैसे चलाओ , मैं तुम्हारे सात जो किया है उसके लिए मुझे क्षमा कर दो। पिता की बात सुनकर लड़के के आंसू नहीं रुक रहे थे, आज उसको यह समझ में आ गया था कि उसके पिता इस दुनिया में सबसे महान व्यापारी है ऐसा व्यापारी जिससे हर पल कुछ ना कुछ सीखने जरूर मिलेगा। 

निष्कर्ष

दोस्तों इस (Inspiration Hindi Story) कहानी से हमें यह शिक्षा मिलती है कि हम जो दान देते हैं जरूरी नहीं कि हम बात कर ही दिन वेद पुराणों में और प्राचीन काल में ऐसे अनेक उदाहरण दिए गए हैं जिनमें बिना बताए दान का महत्व समझाया गया है। आज के समय में हम थोड़ा सा कुछ दान देकर उसकी फोटो खींचते हैं और सोशल मीडिया पर डाल देते हैं जबकि बहुत सारे लोग आज भी ऐसे हैं जो कि कई करोड़ का दान देते हैं और उसका जिक्र अपने परिवार को भी नहीं होने देते।

Leave a Comment