Horror Story In Hindi

Horror Story In Hindi

Horror Story In Hindi – काला साया

Horror Story In Hindi - काला साया

एक बार की बात है, एक छोटे से गाँव में एक युवक रहता था जिसका नाम सुनील था। सुनील एक मेहनती और ईमानदार लड़का था। वह गाँव के लोगों का बहुत सम्मान करता था और सभी लोग उसे बहुत पसंद करते थे।

एक दिन सुनील को गाँव के बाहर जंगल में जाना पड़ा। वह जंगल में कभी नहीं गया था, लेकिन उसे पता था कि जंगल में एक पुराना मंदिर है। वह मंदिर में जाकर भगवान से आशीर्वाद लेना चाहता था।

सुनील जंगल में गया और वह मंदिर तक पहुँच गया। मंदिर बहुत पुराना था और उसका दरवाजा बंद था। सुनील ने दरवाजा खोलने की कोशिश की, लेकिन वह नहीं खुला। सुनील ने हार नहीं मानी और वह दरवाजे के पीछे से मंदिर के अंदर घुस गया।

मंदिर के अंदर बहुत अंधेरा था। सुनील ने अपनी आँखों को घुमाया और वह एक मूर्ति देख सकता था। मूर्ति बहुत डरावनी थी और उसका चेहरा बहुत गुस्से में था।

सुनील मूर्ति के पास गया और वह उसका स्पर्श करने लगा। अचानक, मूर्ति से एक काला साया निकला और वह सुनील के शरीर में घुस गया।

सुनील बहुत डर गया और वह भागने लगा। लेकिन वह भाग नहीं सका। काला साया उसके शरीर में था और वह सुनील को नियंत्रित कर रहा था।

सुनील गाँव वापस गया और वह अपने घर में घुस गया। उसके परिवार ने उसे देखा और वे बहुत डर गए। सुनील का चेहरा बहुत गुस्से में था और उसकी आँखें लाल थीं।

सुनील ने अपने परिवार पर हमला करना शुरू कर दिया। उसके परिवार ने उससे बचने की कोशिश की, लेकिन वे नहीं बच सके। सुनील ने अपने पूरे परिवार को मार डाला।

गाँव के लोग सुनील के घर से चीखें सुन सकते थे और वे गाँव के मुखिया के पास गए। गाँव के मुखिया ने सुनील के घर जाने का फैसला किया और वह कुछ लोगों को अपने साथ ले गया।

गाँव के मुखिया और उसके लोग सुनील के घर गए और उन्होंने सुनील को उसके परिवार की हत्या करते हुए देखा। वे बहुत डर गए और वे भागने लगे।

सुनील ने गाँव के मुखिया और उसके लोगों का पीछा किया और वह उन्हें मारने लगा। गाँव के लोग बहुत डर गए और वे गाँव छोड़कर भाग गए।

सुनील गाँव में अकेला रह गया। वह गाँव में घूमता रहा और लोगों को मारता रहा। लोग सुनील से बहुत डरते थे और वे उसे ‘काला साया’ कहते थे।

एक दिन, एक बहादुर योद्धा गाँव में आया और उसने सुनील से लड़ने का फैसला किया। योद्धा ने सुनील को बहुत मारा और वह सुनील को हराने में सफल रहा।

काला साया सुनील के शरीर से निकल गया और वह मर गया। गाँव के लोग बहुत खुश थे और उन्होंने योद्धा का बहुत धन्यवाद किया।

गाँव के लोग गाँव में वापस आए और उन्होंने अपने जीवन को फिर से शुरू किया। वे कभी भी ‘काला साया’ को नहीं भूलेंगे, लेकिन वे जानते थे कि वे अब सुरक्षित हैं।

Horror Story In Hindi – एक अंधेरी रात

Horror Story In Hindi - एक अंधेरी रात

एक बार की बात है, एक छोटे से गाँव में एक पुरानी हवेली थी। हवेली के बारे में अफवाह थी कि यह भूतों का वास है। गाँव के लोग हवेली के पास जाने से भी डरते थे।

एक रात, गाँव का एक युवक, रामू, हवेली के पास से गुजर रहा था। रामू को भूतों में बिल्कुल भी विश्वास नहीं था। वह हवेली के पास गया और अंदर झाँकने लगा।

हवेली के अंदर अंधेरा था। रामू कुछ नहीं देख सका। लेकिन उसने अजीब आवाजें सुनीं। आवाजें इतनी डरावनी थीं कि रामू का दिल जोर-जोर से धड़कने लगा।

रामू हवेली से भागने लगा। लेकिन वह रास्ता भटक गया। रामू घबरा गया। वह हवेली के अंदर फंस गया था।

रामू अंधेरे में भटकता रहा। वह बहुत डर गया था। वह सोच रहा था कि उसे कोई भूत मार देगा।

अचानक, रामू ने एक कमरे में रोशनी देखी। वह कमरे में गया और दरवाजा बंद कर लिया।

कमरे में एक बूढ़ी औरत बैठी थी। बूढ़ी औरत ने रामू से कहा, “डरो मत, बच्चे। मैं तुम्हें नहीं मारूँगी।”

रामू बूढ़ी औरत की बात सुनकर हैरान हो गया। उसने पूछा, “आप कौन हैं?”

बूढ़ी औरत ने कहा, “मैं इस हवेली की मालकिन हूँ। मैं यहाँ बहुत सालों से अकेली रहती हूँ।”

रामू ने पूछा, “लेकिन आप भूत नहीं हैं?”

बूढ़ी औरत ने हँसकर कहा, “नहीं, बच्चे। मैं भूत नहीं हूँ। मैं एक इंसान हूँ।”

रामू ने बूढ़ी औरत की बात पर विश्वास नहीं किया। लेकिन बूढ़ी औरत ने उसे यकीन दिलाया कि वह सच कह रही है।

बूढ़ी औरत ने रामू को बताया कि वह एक जादूगरनी है। उसने रामू को एक जादुई ताबीज दिया और कहा, “यह ताबीज तुम्हें भूतों से बचाएगा।”

रामू ने ताबीज ले लिया और बूढ़ी औरत का शुक्रिया अदा किया। वह हवेली से बाहर निकल गया और गाँव की तरफ भाग गया।

गाँव के लोग रामू को देखकर बहुत खुश हुए। उन्होंने रामू से पूछा कि वह हवेली में कैसे बच गया।

रामू ने उन्हें बूढ़ी औरत के बारे में बताया। गाँव के लोग रामू की बात पर विश्वास नहीं कर सके। लेकिन रामू जानता था कि वह सच कह रहा है।

रामू ने तब से कभी भी हवेली के पास नहीं गया। लेकिन वह हमेशा बूढ़ी औरत और उसके जादुई ताबीज को याद करता रहा।

Horror Story In Hindi – काला कुत्ता

Horror Story In Hindi - काला कुत्ता

एक बार की बात है, एक छोटे से गाँव में एक कुत्ता था। कुत्ता बहुत काला था और उसकी आँखें लाल थीं। गाँव के लोग कुत्ते से बहुत डरते थे। वे कहते थे कि कुत्ता भूत है।

एक रात, गाँव का एक युवक, राहुल, घर से निकला। राहुल को कुत्ते से बिल्कुल भी डर नहीं था। वह कुत्ते के पास गया और उसे सहलाने लगा।

कुत्ता राहुल से बहुत खुश हुआ। वह राहुल के पीछे-पीछे चलने लगा। राहुल और कुत्ता एक साथ गाँव के बाहर घूमने लगे।

अचानक, कुत्ता रुक गया और जोर-जोर से भौंकने लगा। राहुल ने देखा कि कुत्ता एक अंधेरे पेड़ की तरफ देख रहा था।

राहुल ने पेड़ की तरफ देखा। पेड़ के पीछे कुछ छिपा हुआ था। राहुल को लगा कि वह कोई भूत है।

राहुल बहुत डर गया। वह भागने लगा। लेकिन कुत्ता उसके पीछे भाग गया।

राहुल ने कुत्ते से कहा, “मुझे मत मारो!”

लेकिन कुत्ता नहीं रुका। वह राहुल के पीछे भागता रहा और उसे काटने की कोशिश करता रहा।

राहुल बहुत थक गया था। वह और नहीं भाग सकता था। वह गिर पड़ा और उसने कुत्ते से दया करने की भीख माँगी।

लेकिन कुत्ता नहीं रुका। वह राहुल पर टूट पड़ा और उसे काटना शुरू कर दिया।

राहुल चीखने लगा। लेकिन कोई उसकी मदद नहीं करने आया। वह गाँव से बहुत दूर था।

राहुल को पता था कि वह मरने वाला है। वह अपनी आँखें बंद कर लीं और मौत का इंतजार करने लगा।

लेकिन अचानक, कुत्ता रुक गया। वह राहुल से दूर चला गया और अंधेरे में गायब हो गया।

राहुल बहुत हैरान हुआ। वह नहीं समझ सका कि कुत्ता क्यों चला गया।

राहुल ने खड़े होकर अपने शरीर को देखा। उसने पाया कि कुत्ते ने उसे नहीं मारा था। कुत्ते ने उसे सिर्फ डरा दिया था।

राहुल को बहुत गुस्सा आया। वह कुत्ते को ढूँढने निकला। लेकिन कुत्ता कहीं नहीं मिला।

राहुल कभी भी कुत्ते को नहीं भूला। वह हमेशा उसकी लाल आँखों और उसके जोर-जोर से भौंकने की आवाज को याद करता रहा।

गाँव के लोग कहते हैं कि कुत्ता अभी भी गाँव के आसपास घूमता है। वे कहते हैं कि वह उन लोगों को डराता है जो भूतों में विश्वास नहीं करते हैं।

Horror Story In Hindi – एक सुखी-खुशहाल परिवार की भयानक कहानी

Horror Story In Hindi - एक सुखी-खुशहाल परिवार की भयानक कहानी

एक छोटे से गाँव में एक खुशहाल परिवार रहता था। परिवार में पति, पत्नी और एक छोटा बेटा था। वे सभी एक साथ रहते थे और उनका जीवन बहुत अच्छा था।

एक दिन, पति को काम के सिलसिले में शहर जाना पड़ा। पत्नी और बेटा घर पर अकेले रह गए।

रात में, पत्नी को अजीब आवाजें सुनाई देने लगीं। वह डर गई और अपने बेटे को जगाया।

बच्चा भी डर गया था। वह अपनी माँ से लिपट गया।

अचानक, कमरे में एक भयंकर आवाज सुनाई दी। पत्नी और बेटा दोनों बहुत डर गए।

उन्होंने कमरे का दरवाजा बंद कर दिया और अंधेरे में छिप गए।

भयंकर आवाजें आती रहीं और कमरे का दरवाजा जोर-जोर से हिलने लगा।

पत्नी और बेटा बहुत डर गए थे। वे सोच रहे थे कि उन्हें कोई भूत मार देगा।

अचानक, दरवाजा टूट गया और कमरे में एक भयानक प्राणी घुस आया।

प्राणी बहुत बड़ा और खौफनाक था। उसके पास लंबे, नुकीले नाखून और तेज दांत थे।

पत्नी और बेटा प्राणी को देखकर बहुत डर गए। वे चीखने लगे और भागने लगे।

लेकिन प्राणी ने उन्हें पकड़ लिया और उन पर हमला कर दिया।

पत्नी और बेटा चीखते-चिल्लाते रहे, लेकिन कोई उनकी मदद करने नहीं आया।

दूसरे दिन सुबह, गाँव के लोग पत्नी और बेटे के शवों को उनके घर में पाया।

वे बहुत दुखी थे और उन्हें समझ में नहीं आ रहा था कि उनकी मृत्यु कैसे हुई।

कुछ लोगों ने कहा कि पत्नी और बेटे को किसी भूत ने मार दिया है।

दूसरे लोगों ने कहा कि किसी डाकू ने उन्हें मार दिया है।

लेकिन सच्चाई किसी को नहीं पता थी।

पत्नी और बेटे की मौत एक रहस्य बन गई।

गाँव के लोग आज भी इस कहानी को सुनकर डर जाते हैं।

वे कहते हैं कि पत्नी और बेटे की आत्माएँ आज भी गाँव में भटकती हैं।

और जो भी रात में अकेले में निकलता है, उसे उनकी भयानक चीखें सुनाई देती हैं।

Horror Story In Hindi – एक सुनसान सड़क पर

Horror Story In Hindi - एक सुनसान सड़क पर

एक बार की बात है, एक छोटे से गाँव में एक सुनसान सड़क थी। गाँव के लोग कहते थे कि सड़क पर भूतों का वास है। रात के समय कोई भी सड़क पर नहीं जाता था।

एक रात, गाँव का एक युवक, राजू, सड़क पर से गुजर रहा था। राजू बहुत गरीब था। वह रात को काम करके अपने परिवार का पेट पालता था।

राजू को भूतों में बिल्कुल भी विश्वास नहीं था। वह सड़क पर गया और चलने लगा।

रास्ते में राजू को एक बूढ़ा आदमी मिला। बूढ़े आदमी ने राजू से कहा, “बच्चे, इस सड़क पर मत चलो। इस सड़क पर भूत रहते हैं।”

राजू हँसकर कहा, “बाबा, मैं भूतों में विश्वास नहीं करता।”

बूढ़ा आदमी ने कहा, “अगर तुम्हें नहीं मारना चाहते तो मेरी बात मान लो।”

राजू ने बूढ़े आदमी की बात नहीं मानी और चलने लगा।

राजू कुछ ही दूर गया था कि उसे एक भूत दिखाई दिया। भूत बहुत डरावना था। उसके मुँह से खून टपक रहा था।

राजू बहुत डर गया। वह भागने लगा। लेकिन भूत उसका पीछा करने लगा।

राजू बहुत तेज़ भाग रहा था। लेकिन भूत उससे भी तेज़ भाग रहा था।

राजू को लगा कि अब वह मर जाएगा। लेकिन तभी उसे एक मंदिर दिखाई दिया। राजू मंदिर में जाकर भगवान से प्रार्थना करने लगा।

भूत मंदिर के अंदर नहीं आ सका। वह बाहर खड़ा रहा और राजू को धमकाने लगा।

राजू ने भगवान से विनती की कि वह उसे भूत से बचा ले। भगवान ने राजू की विनती सुन ली।

एक तेज रोशनी हुई और भूत जल गया।

राजू ने भगवान को धन्यवाद दिया। वह मंदिर से बाहर निकल गया और गाँव की तरफ भाग गया।

गाँव के लोग राजू को देखकर बहुत खुश हुए। उन्होंने राजू से पूछा कि वह भूत से कैसे बच गया।

राजू ने उन्हें भगवान के बारे में बताया। गाँव के लोग राजू की बात पर विश्वास नहीं कर सके। लेकिन राजू जानता था कि वह सच कह रहा है।

राजू ने तब से कभी भी सुनसान सड़क पर नहीं गया। लेकिन वह हमेशा भगवान का शुक्रिया अदा करता रहा।

Leave a Comment